ज्ञानी बाबा

हिमयुग की वापसी (विज्ञान गल्प) : जयंत विष्णु नार्लीकर

भाग -1 ‘‘पा पा, पापा ! जल्दी उठो। देखो, बाहर कितनी सारी बर्फ है! कितना अच्छा लग रहा है!’’  राजीव शाह की सुबह-सुबह की गहरी नींद...

बापू की बोली – (सुशोभित)

आशीष नंदी ने गाँधी और नेहरू की अंग्रेज़ी पर टिप्पणी करते हुए बड़ी सुंदर बात कही थी। उन्होंने कहा था कि “जहाँ नेहरू की...

पक्षी और दीमक (कहानी) : गजानन माधव मुक्तिबोध | Pakshi aur Deemak Kahani

बाहर चिलचिलाती हुई दोपहर है; लेकिन इस कमरे में ठंडा मद्धिम उजाला है। यह उजाला इस बन्द खिड़की की दरारों से आता है। यह...

राजनीति का बंटवारा (व्यंग्य) : हरिशंकर परसाई

Rajniti ka Batwara - Harishankar Parsai ke vyangya राजनीति का बँटवारा सेठजी का परिवार सलाह करने बैठा है। समस्या राष्ट्रीय है। आखिर इस राष्ट्र का होगा...

धोबिन को नहिं दीन्हीं चदरिया (व्यंग्य) : हरिशंकर परसाई

Dhobin ko nhi Dinhi Chadriya ~ Harishankar Parsai ke Vyangya पता नहीं, क्यों भक्तों की चादर मैली होती है! जितना बड़ा भक्त, उतनी ही मैली...

सबसे खतरनाक होता है (कविता) : अवतार सिंह संधू ‘पाश’

  Sabse Khatarnak hota hai kavita by Avtar Singh Sandhu 'Pash' यह कविता भावार्थ सहित पढें मेहनत की लूट सबसे खतरनाक नहीं होती पुलिस की मार...

रावी पार (कहानी) – गुलज़ार | Ravi paar : Gulzaar ki Kahani

Ravi paar : Gulzaar ki Kahani पता नहीं दर्शन सिंह क्यूं पागल नहीं हो गया? बाप घर पे मर गया और मां उसे बचे-खुचे गुरुद्वारे...

ग्रामोफोन पिन का रहस्य – ब्योमकेश बक्शी की जासूसी कहानी

 ब्योमकेश ने सुबह का अखबार अच्छे से तह करके एक ओर रख दिया। उसके बाद अपनी कुरसी पर पीछे सिर टिकाकर खिड़की के बाहर...

क़तील शिफ़ाई की नज़्में

 जीवनी  जीवनी किसी शायर के शेर लिखने के ढंग आपने बहुत सुने होंगे। उदाहरणतः, ‘इक़बाल’ के बारे में सुना होगा कि वे फ़र्शी हुक़्क़ा भरकर...

अग्नि को शाप (महाभारत की अनसुनी कहानियाँ)

ब्रह्माजी ने भृगु ऋषि की रचना की, इसलिए ब्रह्माजी भृगु ऋषि को अपना पुत्र मानते थे। भृगु ऋषि की एक सुंदर और पवित्र पत्नी थी,...

बेसेक्स कप ( शेरलॉक होम्स की जासूसी कहानी) : आर्थर कानन डायल

 Berex Cup -  Sherlock Holmes ki Jasusi kahani in Hindi by Arthur Conan Doyle न्यूटन मालिक हेथ—लाल टोपी, दालचीनी के रंगवाली जैकेट पुगिलिस्ट मालिक कर्नल...

बोहेमिया की बदनामी (शेरलॉक होम्स की जासूसी कहानी) : आर्थर कॉनन डायल

    Bohemiya ki Badnami - Sherlock Holmes ki Jasusi kahani in Hindi by Arthur Conan Doyleशेरलॉक होम्स के लिए वह केवल एक औरत थी। मैंने...
spot_img

Popular

हिमयुग की वापसी (विज्ञान गल्प) : जयंत विष्णु नार्लीकर

भाग -1 ‘‘पा पा, पापा ! जल्दी उठो। देखो, बाहर...

बापू की बोली – (सुशोभित)

आशीष नंदी ने गाँधी और नेहरू की अंग्रेज़ी पर...

पक्षी और दीमक (कहानी) : गजानन माधव मुक्तिबोध | Pakshi aur Deemak Kahani

बाहर चिलचिलाती हुई दोपहर है; लेकिन इस कमरे में...

राजनीति का बंटवारा (व्यंग्य) : हरिशंकर परसाई

Rajniti ka Batwara - Harishankar Parsai ke vyangya राजनीति का...